Thursday, 13 June 2019

बालों को स्वस्थ एवं सुंदर बनाने के लिए महत्वपूर्ण योग /Important Yoga to make hair healthy and beautiful / baalon ko svasth evan sundar banaane ke lie mahatvapoorn yog [ayurvedicsujhav]

Hello dosto Namskar
तो दोस्तों आज हम बात करेंगे सिर के बालों की। महिलाओ व पुरुषो खूबसूरती में उनके सिर का बालो का अहम रोल होता है। जिन महिलाओं व पुरुषों के जितने ज्यादा खूबसूरत एंव अच्छे बाल होंगे उनका लुक्स उतना ही अच्छा होगा। खासकर महिलाओं के लिए लंबे व स्वस्थ बाल ही उनकी खूबसूरती होती है। इसके लिए वह काफी कुछ मेहनत करती है जैसे कौन सा शैंपू यूज़ करना है कौन सा नहीं परंतु फिर भी बालों की कुछ समस्या आई जाती है जैसे -बालों का टुटना, असमय सफेद होना, झड़ना, आदि

इन समस्या होने के अन्य कारण हो सकते हैं जैसे -

1.प्रदूषण ,
2.तनाव ,
3.अनियमित दिनचर्या 
4.पाचन में खराबी आदि कारण हो सकते हैं।

इन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए योग के माध्यम से सिर और खोपड़ी क्षेत्र से रक्त और ऑक्सीजन के प्रभाव को बढ़ाया जाता है, जिससे बालों को उचित पोषण मिलता और बालों की समस्याओं से राहत मिलती है।

स्वस्थ बालों के लिए महत्वपूर्ण योग-

1.वज्रासन ( Vajrasana ) -


बालों के झड़ने का प्रमुख कारण पाचन की खराबी भी हो सकता है। वज्रासन को नियमित रूप से करने पर पाचन में सुधार होता है और यह कब्ज से छुटकारा दिलाकर पेट की बीमारी दूर करता है।

विधि --- 

पैरों को घुटनों से मोड़कर एड़ियों पर बैठ जाइए कमर बिल्कुल सीधी और दोनों हाथ मोड़े बिना घुटनों पर रख दे नजर सामने स्तर कर दे। पाँच मिनट से लेकर आधे घंटे तक Vajrasana का अभ्यास कर सकते हैं।

सावधानी ---

जोड़ों में दर्द, एडी के रोग से पीड़ित व्यक्ति वज्रासन ने करें। अगर वज्रासन करने पर आपको कमर दर्द कमजोरी और चक्कर आने जैसी कोई समस्या हो तो आसन बंद करें, वह डॉक्टर की सलाह ले।

2. पवनमुक्तासन (Pavan muktaan ) -


यह आसन बालों की समस्याओं को दूर करने के साथ ही पाचन और उत्सर्जन को easy बनाता है मासिक धर्म संबंधी समस्याओं को दूर कर बालों के लिए जरूरी हार्मोन को सही करता है।

विधि---

सीधा लेटकर दोनों पैरों को घुटनों से मोड़ें । घुटनों को अपने मुंह की ओर करे। कंधों को ऊपर उठाएं व नाक से घुटने को छूने का प्रयास करें। इस आसन को 10 से 60 सेकंड तक करने का प्रयास करें।

सावधानी ---

जोड़ों में दर्द एवं एडी के रोग से पीड़ित व्यक्ति नहीं करें

3.भ्रामरी प्राणायाम (Bhramari Pranayama)-


मानसिक तनाव की वजह से बालों की कोई समस्या है तो भ्रामरी प्राणायाम से नियमित अभ्यास से उसे काफी हद तक सही किया जा सकता है

विधि---

पद्मासन या सुखासन में बैठकर दोनों हाथों को मोड़कर कानों के पास ले जाइए दोनों अंगूठे से कानों को बंद कर ले और बांके अंगुली से सिर पर रख ले अब श्व़ास अंदर ले। श़्वास बाहर छोड़ते समय कंठ से भ्रमर के समान आवाज निकालना है । यह आवाज पूर्ण श्व़ास छोड़ने तक करे और आवाज आखिरी तक समान होनी चाहिए ।श्वास अंदर लेने का समय 10 सेकंड तक होना चाहिए और बार छोड़ने का समय 20 सेकंड तक होना चाहिए। शुरुआत में 5 मिनट तक करें अभ्यास के साथ समय बढाएं

सावधानी---

कान में दर्द और संक्रमण होने पर यह प्राणायाम नहीं करना चाहिए । चक्कर आना घबराहट खांसी सिरदर्द या अन्य कोई परेशानी होने पर प्राणायाम ने करें । डॉक्टर से सलाह लें।

4.शशांकासन ( Shashankasana ) -


इस आसन के अभ्यास से तनाव से मुक्ति मिलती है सिर की तरफ रक्त संचार बेहतर होता है जिससे बाल सफेद होने में जुड़ने की समस्या से राहत मिलती है

विधि---

वज्रासन की स्थिति में बैठ जाए सांस लेते हुए हाथों को ऊपर उठाइए । अब सांस छोड़ते हुए आगे झुके और सिर को जमीन से लगाइए। कुछ देर ऐसे ही करें। कम से कम 30 सेकंड करें और चार पांच बार करें

सावधानी---

जोड़ों में दर्द व एडी के रोग से पीड़ित व्यक्ति नही करे
Previous Post
Next Post

0 Comments: